support@fundsmultiply

Zerodha Smallcase HINDI Review – Trading Platforms in India

ज़ेरोधा स्माल केस

Mobile App

 

ज़ेरोधा स्माल केस की समीक्षा करने से पहले , हमारा यह समझना ज़रूरी है कि स्माल केस का क्या अर्थ होता है? यह निवेश में किस प्रकार मदद करता है? हमे इसकी आवश्यकता क्यों हैं और इसी तरह के कई तथ्य ! मूल रूप से, स्माल केस एक तरह का इक्विटी निवेश का प्लेटफार्म है जो की ख़ास तौर पर रिटेल निवेशकों की दो मुख्य निवेश योजनाओं- थीमंटिक और पोर्टफोलियो आधारित, निवेश को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है |

रुकिए, थीमंटिक निवेश का क्या अर्थ है ?

थीमंटिक निवेश का अर्थ मूल रूप से हमारे इर्द गिर्द हो रहे बदलाव में निवेश करना होता है | यह बदलाव कुछ भी हो सकते हैं जैसे की ब्रांडेड कपड़ों को लेकर लोगों की सोच का बदल जाना, देश के कुछ विशेष शहरों या ख़ास प्रकार के शहरों में मौलिक व्यवस्थाओं का विकास, कुछ विशेष क्षेत्रों में सरकार की नीतियों में परिवर्तन जैसे की स्मार्ट सिटीज, मेट्रो, पॉवर ट्रेन्स, जीएसटी का प्रारंभ, इत्यादि |

मूल रूप से यह निवेश केवल शेयर बाज़ार का लक्ष्य न साध कर, उन थीम्स और आइडियाज के क्षेत्रों पर नज़र रखते हैं जिनमे  निवेश करने की सम्भावना हो और अवसर मिल पाएं | थीमंटिक निवेश की सबसे बड़ी खूबी यह है कि यह भविष्य को ध्यान में रखकर चलते हैं और ऐतेहासिक चलन के अधीन नहीं होते इसलिए यह भविष्य में लाभकारी निवेश योजनाओ का निर्माण करते हैं | ऐसी पहल पर्यटन और समृद्धि के उद्योगों में भी की जा सकती है |

ठीक है, यह समझ में आता है! पोर्टफोलियो इन्वेस्टिंग का क्या मतलब होता है ?

पोर्टफोलियो इन्वेस्टिंग केवल किन्ही एक या दो विशेष शेयर में निवेश करने की तुलना में किसी शेयर के सेट या सब सेट अर्थात पूरे समूह या उसके खण्डों में निवेश करने पर ध्यान केन्द्रित करती हैं | उदहारण के लिए, भारत में ई- कॉमर्स के विकास के चलते और हाल ही में हुए विमुद्रीकरण के बाद, शेयर बाज़ार ने बैंक के शेयर में इस कारण बढ़त देखी क्यूंकि ग्राहक वर्ग ने ऑनलाइन खरीद करनी शुरू कर दी| यही कारण है की बहुत से बैंकों की कीमतों में उछाल आया और वह उच्च स्तर की सम्पति श्रेणी में पहुच गए |

इसलिए यदि आपने व्यक्तिगत तौर पर मीडिया, अख़बार और टेलीविज़न के माध्यम से सबको इसी विषय पर चर्चा करते सुना होगा तो आप भी किसी एक बैंक के शेयर में ही निवेश करेंगे  | लेकिन तब क्या होगा जब वह बैंक जिसमे आपने निवेश किया हैं उसके दामों में भारी गिरावट आए और अन्य बैंकों के दाम, शेयर बाज़ार के मूल्यों में वृद्धि के चलते ऊपर उठ जाएँ | इस प्रकार के स्थितिओं से निपटने के लिए ही पोर्टफोलियो निवेश काम आता है क्यूंकि यह आपके निवेश को एक ही उद्योग के अनेक शयरों में विभाजित करता है और आपको अपना सारा निवेश एक ही जगह फ़साने से बचाता है |

स्माल केस पर वापस आते हैं, मूल रूप से यह दोनों , थीमंटिक और पोर्टफोलियो निवेश नीतियों को ध्यान में रखते हुए , भिन्न उद्योगों, क्षेत्रों, और बाहरी स्थितियों, इत्यादि के अनुसार अलग अलग निवेश की नीति बनाता है |

स्मार्ट सिटीज का ही उदहारण लेते हैं जहाँ हमारी सरकार तीन टायर शहरों में से स्मार्ट सिटीज को बनाने का और उनके विकास के कई प्रयास कर रही है |

एक थीम या विषय की पहचान इस प्रकार है:


Mobile App

इस धारणा का सीधा असर मौलिक व्यवस्थता, शिक्षा, रिटेल, दूरसंचार, परिवहन और अन्य क्षेत्रों पर पड़ता है | अब कई कंपनियां इस धारणा के चलते इन क्षेत्रों में विकास की सम्भावना और अवसार को देखकर अपने कदम इनमे में रखेंगी | ऐसे में स्माल केस अपनी रिसर्च से इन क्षेत्र की कंपनियों के विशेष स्टॉक या शेयर चुन कर उनमे एक धारणा का विकास करता है |

इस धारणा को स्मार्ट सिटीज कहा जा सकता है | यह थीम कई एक व्यापार क्षेत्र के बहुत सारे शेयर को मिला कर बनती है और इसमें सभी स्तरों पर विकास देखा जा रहा है |

उदहारण के लिए, थीम के विकास का ग्राफ इस प्रकार दिखता है:

Mobile App

मूल रूप से यह ग्राफ हमे बता रहा है की यदि हम इस थीम में शामिल शयरों को एकजुट कर के स्माल केस के माध्यम से निवेश करेंगे तो दो साल के समय के भीतर, इनसे हमे 40 प्रतिशत तक का लाभ मिला सकता है | उपयोगकर्ता लाभ प्रतिशत की आंकलन 1 महीने से लेकर 3 महीने, 6 महीने, 1 साल और 2 साल तक कर सकते हैं |

इसी प्रकार , अलग अलग वर्ग के शेयर जो की बाहरी व्यवस्था और अवसरों से प्रभावित होते हैं, ऐसी 40 से अधिक थीमों का हिस्सा हैं. हर थीम में रिसर्च के बाद 15-20 शेयर शामिल किये जाते हैं |

Mobile App

 

इस से यह अंदाज़ लगाया जा सकता है की न्यूनतम निवेश के साथ, आप एक महीने जितने कम समय से लेकर 1 साल तक की लम्बी अवधि में किस प्रकार के लाभ और बढ़त की उम्मीद रख सकते हैं |

एक स्माल केस की थीम का विकास किस प्रकार किया जाता है ?

एक स्माल केस के टीम के अनुसार, स्माल केस विकसित करने के लिए वह दी हुई प्रक्रिया अपनाते हैं:

  • बहुत ही गहराई से शुरुवात कर के स्टॉक मार्किट में सूचीबद्ध सभी शेयरों के बारे में विचार करना
  • किसी थीम को सुनिश्चित करने से पहले आंकड़ों, सूचकांक, बाहरी स्थितियों पर विस्तार से गहन या रिसर्च करना

जिस उद्योग की थीम को चुना गया है , उससे प्रभावित होने वाले विशेष क्षत्रों, कंपनियों की सूची तैयार करना | इसके लिए ज़रूरी है की रिसर्च टीम यह समझ पाए कि कौन सी कंपनी किस मॉडल के प्रति झुकाव रखती है और चुने हुए थीम के विषय का कंपनी पर प्रभाव पड़ेगा या नहीं. ऐसा ज़रूरी नहीं है की एक विशेष उद्योग की सभी कंपनियों पर प्रभाव पड़े इसलिए निश्चित कंपनियों को ही चुना जाता है|  

  • स्माल केस द्वारा विकसित अल्गोरिथ्म्स और मॉडल की मदद से शेयर को चुनने की प्रक्रिया का पूरा किया जाना
  • चुने हुए शेयर के मुकाबले सम्बंधित निवेष का मूल्याकन करना
  • चुने हुए स्टॉक या शेयर में इस प्रक्रिया को दोहराना ताकि किसी भी प्रकार के बदलाव , जोड़, या घटाव का पता चल सके

इसलिए स्माल केसेस उन निवेश अवसरों के सामर्थ को दर्शाते और प्रस्तुत करते हैं जिन्हें की पर्याप्त रिसर्च के बल पर आधारित किया जाता है | यह ये भी बताते हैं एक निर्धारित निवेश के समय और न्यूनतम निवेश के द्वारा आप संभावित रूप से कितने प्रतिशत लाभ की अपेक्षा रख सकते हैं|

ज़ेरोधा स्माल केस की कीमत

निवेश मूल्य का ध्यान किये बिना, ज़ेरोधा स्माल केस प्रति स्माल केस का आपसे 100 रुपये का मूल्य लेता है | इसलिए यदि आप 3 भिन्न स्माल केसेस में 50000 रुपये का निवेश करते हैं तो आपको कुल 300 रुपये का मूल चुकाना होगा |

यदि बाद में आप अपने निवेश किया हुए स्माल केस में ज्यादा रूपया डालना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना होगा|

ज़ेरोधा स्माल केस कैसे काम करता है ?

क्यूंकि स्माल केस ज़ेरोधा के संग सांझेदारी में काम करता है इसलिए सबसे पहले आपके पास ज़ेरोधा का ट्रेडिंग खाता होना चाहिए | आप अपने बारे में यहाँ जानकारी देकर ज़ेरोधा के साथ ट्रेडिंग अकाउंट खोल सकते हैं |

एक बार जब आपने अपने निवेश के लिए स्माल केस का चयन कर लिया हो तो आपको स्माल केस पेज पर जाना होता है | वहां पहुच कर आपको जैसे नीचे दिया गया है “स्माल केस खरीदो “ के बटन पर क्लिक करना होता है |


Mobile App

जैसे ही आप बटन को क्लिक करेंगे आपको स्माल केस में निवेश करी जाने वाली राशि की पुष्टि करनी होगी | हर स्माल केस में निवेश करने के लिए एक न्यूनतम राशि तय होती है लेकिन यदि आप चाहें तो आप न्यूनतम राशि से अधिक का भी निवेश कर सकते हैं | आप जैसे ही निवेश करी जाने वाली राशि का ब्योरा देंगे , आपको जैसे की यहाँ दिखाया गया है “ कन्फर्म अमाउंट बटन “ पर क्लिक करना होगा|


Mobile App

जैसे ही यह प्रक्रिया पूरी हो जाएगी , स्माल केस में चुने हुए शेयर में निवेश करी हुई राशि, भिन्न शेयर और उनसे सम्बंधित संख्या के बारे में आपको जानकारी दिखाई देने लगेगी | रिसर्च टीम द्वारा आपके कुल निवेश को भिन्न महत्व के स्टॉक में विभाजित कर दिया जाएगा|


Mobile App

जैसे ही आप अपने आर्डर की पुष्टि कर देंगे, आपको इस प्रकार आर्डर कन्फर्मेशन तक ले जाया जाएगा:


Mobile App

और, आप पने निवेश की जानकारी “ ट्रैक इन्वेस्टमेंट बटन “ पर क्लिक कर के भी हासिल कर सकते हैं|

हाँ, पर सब कुछ हमेशा सही नहीं हो सकता है, ठीक हैं न?

ज़ेरोधा स्माल केस के नुक्सान

इसके आधार या प्लेटफार्म को लेकर कुछ चिंता के विषय हैं, जैसे की :

  • यह केवल इक्विटी सेगमेंट में उपलब्ध है
  • यह अभी पूर्ण रूप से ज़ेरोधा काईट प्लेटफार्म के साथ सम्मिलित या इंटीग्रेटेड नहीं है

 

ज़ेरोधा स्माल केस के लाभ

यह, निवेशकों या बाज़ार में पहली दफा कदम रखने वालों के लिए दी गई सकारात्मक सुविधाएँ प्रदान करता है :

  • उपयोगकर्ता स्माल केस को अपने अनुसार कस्टमाइज या सेट कर सकते हैं , नए स्टॉक जोड़ना, पहले से जुड़े हुए स्टॉक को हटाना , इत्यादि अपनी प्राथमिकता द्वारा कर सकते हैं
  • आपको अपने स्तर से किसी भी प्रकार का मूल रुपी जानकारी हासिल नहीं करनी है या रिसर्च नहीं करनी है | स्वयं पहले से ही इसकी व्यवस्था होती है |
  • अपने निवेशों को भिन्न उद्योगों, कंपनी के शेयर में बाटने की सुविधा के साथ आपकी शुरुवाती निवेश राशि पर न्यूनतम खतरा या रिस्क |